top of page

Studying Religion and Practising Spirituality since 1988 in this life.    १९८८ से धर्म एवं अध्यात्म की पढ़ाई और अभ्यास में संलग्न । 
Involved in Healthcare service and Public Social service since 1995.   १९९५ से स्वास्थ्य सेवा, समाज सेवा और जनसेवा में संलग्न ।  
Involved in Technological Business since 2002.   २००२ से तकनीकी व्यवसाय में संलग्न । 
Travelled the length and breadth of India from 2002 to 2011.   २००२ से २०११ तक भारत वर्ष में भ्रमण । 

Learning and Researching Astrology since 2011.   २०११ से ज्योतिष विद्या की पढ़ाई और संशोधन में संलग्न । 
Involved in Investment Advisory since 2014.   २०१४ से आर्थिक निवेश की परामर्श सेवा में संलग्न । 
Learning and Practising Occult since 2015.   २०१५ से तंत्र साधना में संलग्न । 
Providing Astrology Consultation since 2019.   २०१९ से ज्योतिषीय परामर्श सेवा में संलग्न । 

No matter what is our name, religion, caste, location or profession at present; we all are a part of the eternal source of life and we play different roles at different times in a single life journey or throughout multiple life journeys!

अभी चाहे हमारा नाम, धर्म, जाति, देश व व्यवसाय कुछ भी हो; हम सब उस एक परम शक्ति के ही अंश हैं और अपने एक ही जीवन में व अनेक जीवनकाल में विभिन्न समय पर विभिन्न किरदार अदा करते हैं।

Although we human beings have limited knowledge, limited vision and limited powers; our Ancestors - MahaRishis, Deities and God have had unlimited and all-encompassing knowledge, vision and powers and by connecting ourselves with our Ancestors, we can use their knowledge, vision and powers for the benefit of ourselves and everyone else too!

 

भले ही हम मनुष्यों के पास अपूर्ण ज्ञान, परिमित द्रष्टि और सीमित शक्तियाँ हो; लेकिन हमारे पूर्वजों - महर्षियों, देवताओं और परमात्मा के पास संपूर्ण ज्ञान, अनंत द्रष्टि और अथाह शक्तियाँ हैं; इसलिए हम स्वयं को उनके साथ जोड़कर, उनसे योग लगाकर, अपने और अन्यों के लाभार्थ उनके ज्ञान, द्रष्टि और शक्तियों का प्रयोग कर सकते हैं।

While providing astrology consultation, I believe myself as just an instrument of the Almighty Authority, the Supreme Soul, God who guides me on how to help the ones who come to me to seek AstroLogical Analysis and Guidance!

ज्योतिषीय परामर्श सेवा प्रदान करते वक्त, मैं स्वयं को उस सर्वशक्तिमान परमात्मा का माध्यम समझकर, उनसे योग लगाकर, उनसे दिव्य संकेत प्राप्त कर, मेरे पास आने वाले जिज्ञासुओं को यथोचित ज्योतिषीय विश्लेषण और मार्गदर्शन देने का प्रयास करता हूँ।

Home: Welcome

आप की कुंडली में ही, आप के जीवन की सभी समस्याओं का कारण और आप का भविष्य छिपा होता है। अनुभवी पंडित से परामर्श लेकर उसका निवारण प्राप्त करें।

Your horoscope has the hidden secrets of all your Life Problems and your Future Predictions! Find them out along with AstroLogical Solutions from Anubhavi Pandit.

Home: Welcome
Home: Product Slider

My  Articles  on  Astrology

मेरे  ज्योतिष  संबंधित  लेख 

  1. क्या ग्रहों, तारों और आसमान में नजर आने वाले नक्षत्रों के चाल की गति और दिशा मनुष्य जीवन को प्रभावित करते हैं, कैसे करते हैं?

  2. अपनी राशि को जन्मतिथि के अनुसार देखना सही है या नाम के पहले अक्षर अनुसार?

  3. फलित ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों का फल क्या लग्न से देखना चाहिए या फिर चन्द्र राशि से ?

  4. क्या राशिफल की भविष्यवाणी सटीक होती है?

  5. क्या आप ज्योतिषशास्त्र को आसानी से समझा सकते हैं?

  6. कोरोना वायरस की महामारी कोविड 19 कब खत्म होगी?

  7. उस व्यक्ति का भविष्य कैसे बता सकते हैं, जिसके दोनों हाथ दुर्घटना में कटने के बाद उसे एक अन्य व्यक्ति के हाथ लगा दिए गए हैं?

  8. क्या रत्नों को धारण करने से समस्याएं हल हो जाती हैं? क्या राशि के विरुद्ध रत्न धारण करने से उनका कुप्रभाव भी होता है?

  9. ज्योतिष विद्या की गणनाओं के आधार पर भविष्यवाणी कितनी सही होती है?

  10. संतान दोष के लिए क्या उपाय करें?

  11. जन्म पत्रिका में गुरु चांडाल दोष क्या होता है इसके उपाय क्या हैं?

  12. गुरु ग्रह को मजबूत करने के लिए रत्न के अलावा क्या विकल्प मौजूद हैं?

  13. जन्मकुंडली में दारिद्र योग कैसे बनता है?

  14. क्या तुला राशि वाले लोगों का जीवन संघर्षपूर्ण होता है?

  15. अधिक महत्वपूर्ण क्या है: कर्म अथवा भाग्य?

  16. जब लाख प्रयास के बाद भी किसी की किस्मत साथ ना दे रही हो तो क्या करना चाहिए?

  17. अगर शादी के लिए लड़का और लड़की के पूरे 36 के 36 गुण मीले तो क्या होगा?

  18. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार साड़ा-साती किसे कहते है और इसके प्रभाव से बचने के लिए कौनसे उपाय करने चाहिए?

  19. राहु की महादशा में राहु की अन्तर्दशा क्या परिणाम देती है?

  20. केतु महादशा कैसी होती है, उस इंसान के लिए जिसका केतु 12 घर में होता है, एवं कौनसी अंतर्दशा सबसे अधिक कठिन होती है?

  21. कुंडली में अगर शुक्र मृतावस्था में हो तो क्या वह इंसान कभी धन उपार्जन नहींं कर सकता?

  22. क्या कोई ऐसा ज्योतिषी अब भी है जो बिल्कुल सही कुंडली बना सके, जिससे ज्योतिष विद्या पर विश्वास और भी ज्यादा प्रगाढ़ हो?

  23. क्या आप किसी ऐसे ज्योतिषी को जानतें है जो जन्मकुंडली को शोधित कर के सटीक जन्मसमय को बता सकते हैं?

  24. क्या कुंडली में आत्महत्या के योग होते हैं?

  25. जब दूरबीन के बिना शनि से परे के ग्रह दिखाई नहीं देते हैं, तो प्राचीन भारतीय ज्योतिषियों को कैसे पता चला कि शनि से परे दो ग्रह और हैं जिन्हें उन्होंने राहू और केतु नाम से संबोधित किया, जिन्हें आज हम नेपच्यून और यूरेनस कहते हैं?

  26. ज्योतिष के मतानुसार विचारो की उत्पत्ति कौनसा ग्रह करता है?

  27. अगर कन्या लग्न मकर राशि में सातवें घर में केतु और शनि की युति हो रही है, तो उसके क्या प्रभाव होंगे?

  28. क्या आप बता सकते हैं कि मीन लग्न की कुंडली में पांचवें घर में शुक्र और शनि का होना क्या संकेत देता है?

  29. ज्योतिष में ग्रहों की उच्च दृष्टि, नीच दृष्टि, मित्र दृष्टि एवं शत्रु दृष्टि क्या होती है ? कृपया मार्गदर्शन करें ?

  30. How did Lord Krishna live a happy married life although his Rahu was in 7th house and Venus in 6th house (6, 8, 12 are not good houses)?

  31. What happens when the 8th house is blank in both charts (Navamsa or Lagna chart)?

  32. As per astrology, what is best time (planetary position) for a baby birth between 3 Feb and 7 Feb 2020?

  33. As per astrology, which will be the best year to give birth to a child in the next 3-4 years?

  34. Has anyone made a successful career in options trading in the Indian stock market?

Home: About Me

Feedback from Clients

Vishal Khandelwal